Cat’s eye

Cat’s eye

200.00

लहसुनिया केतु ग्रह का रत्न है।

लहसुनिया क्रिसोबेरिल जैसा रत्न है। कैबीकोन कट (गोलाकार, अण्डाकार आकृति) देने परइसमें एक हल्के रंग की प्रकाश की रेखा उभरती है जो रत्न को घुमाने पर हिलती है तथा इसे बिल्ली की आंख जैसी समानता उत्पन्न करती है। यह आभास, जिसे तारापुंज कहा जाता है, वह किसी अन्य पदार्थ के समानान्तर रेशों के कारण, छोटी-छोटी खोखली नलिकाओं के कारण होता है। लहसुनिया से पारगम्य होने वाला वायवीय रंग अवरक्त रंग है। यह रत्न दृढ़ निश्चय, मस्तिष्क की ताकत, स्थिरता, इच्छा शक्ति, नैतिक साहस, दृढ़ता शक्ति, आत्मनियंत्रण बुद्धि व ज्ञान का विकास करता है। यह स्थायित्व, वफादारी तथा सभी विपत्तियों को सहने की शक्ति में भी वृद्धि करता है।

  • प्रजाति:    क्रिसाबेरिल
  • पारदर्शिता:    पारदर्शी से पारभासी
  • रंग:    पीला, हरित पीला, भूरा पीला
  • वर्तनांक:    1.746 – 1.755
  • दोहरा परावर्तन:    0.009
  • प्लिओक्रोइज्म:    कमजोर से कठोर डाईक्रोइज्म एवं ट्राइक्रोइज्म
  • माणिक आकार:    औरथोरौम्बिक
  • प्रकाशीय स्वभाव:    दोहरा अपवर्तक
  • आपेक्षिक घनत्व:    3.73,
  • मोहस की कठोरता:    8.5
  • छितराव:    0.015
  • प्रतिदीप्ति:    कुछ नहीं
  • पहचान के लक्षण:    कठोर तारापुंजीय बिल्ली की आंख जैसी दिखने वाली प्रकाश रेखा जो कि अन्त स्थित क्रिस्टल के हल्के परावर्तन के कारण उत्पन्न होती है।
  • स्त्रोत:    श्रीलंका, ब्राजील, दक्षिणी भारत एवं बर्मा
  • दूसरे उपरत्न:    तुरमली लहसुनिया, एपाटाइट लहसुनिया
Category:

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Cat’s eye”

Your email address will not be published. Required fields are marked *