Ruby

Ruby

300.00

माणिक सूर्य ग्रह से नियंत्रित अथवा प्रभावित होता है।

हजारों वर्षों तक माणिक को पृथ्वी का सर्वाधिक मूल्यवान रत्न समझा जाता रहा है। माणिक ाकुरूण्ड धातु की लाल प्रजाति है, जो कि धरती पर पाये जाने वाले कठोरतम धातुओं में से एक है, तथा इसमें एल्यूमिनियम आॅक्साइड व क्रोम विद्यमान होते हैं। संस्कृत में माणिक को मूल्यवान रत्नों में रत्नराज, रत्नों का राजा, या रत्ननायक कहा जाता है। यह कुरूण्ड धातु की एक लाल व पारदर्शी प्रजाति है। यह एक बहुत चमकदार, कठोर, टिकाऊ व पहनने योग्य रत्न है। रंग की विशुद्धता, वजन में भारीपन, स्पर्श की शीतलता, दोषरहित पारदर्शी स्पष्टता, चमक एवं उचि आकार, एक अच्छे माणिक के गुण हैं। माणिक से पारगम्य होने वाला वायवीय रंग लाल है। माणिक सौन्दर्य, स्वास्थ्य, शक्ति, प्रेम, आवेश व मित्रता का प्रतीक है। यह व्यक्ति को निर्भीक व साहसी बना देता है तथा उसके अवसाद को दूर करता है। यह नाम व ख्याति में वृद्धि करता है। यह हृदय को मजबूती देता है व खून के प्रवाह को ठीक करता है। यह एकता, समर्पण, खुशहाली, स्वास्थ्य, साहस, आवेश, प्रेम, नेतृत्व के गुण, उत्साह व उदारता को बढ़ाता है।

  • प्रजाति:    कुरूण्ड या कुरून्दम
  • पारदर्शिता:    पारदर्शी
  • रंग:    लाल, संतरी लाल, बैंगनी लाल, जामुनी लाल, गुलाबी लाल, गुलाबी
  • वर्तनांक:    1-763-1-770
  • दोहरा परावर्तन:    0.008
  • प्लिओक्रोइज्म:    कठोर उाईक्रोइज्म
  • माणिक आकार:    षट्कोणीय
  • प्रकाशीय स्वभाव:    दुगुना अपावर्तक
  • आपेक्षिक घनत्व:    4.00
  • मोहस की कठोरता:    9
  • छितराव:    0.018
  • प्रतिदीप्ति;    दीर्घ दैध्र्य कमजोर से मजबूत लाल
  • पहचान के लक्षण:    अंगुलिछाप परतें, षटकोणीय वृद्धि रेखायें, रेशमी एवं लम्बवत तथा रंगीन धारिया
  • स्त्रोत:    बर्मा, थाईलैण्ड, श्रीलंका, कम्बोडिया, लाओस, एवं वियतनाम
  • दूसरे उपरत्न;    लाल स्पाइनल, लाल तामडा, रूबेलाइट
Category:

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Ruby”

Your email address will not be published. Required fields are marked *